Saturday, October 16, 2021
No menu items!

इनेलो की तरफ से अभय चौटाला होंगे प्रत्याशी: ऐलनाबाद सीट से लगातार तीन बार रहे हैं विजेता, परपंरागत सीट को बचाना होगी चुनौती, भाजपा-कांग्रेस के लिए कठिन हुआ मुकाबला

Must Read


  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Winner Of Ellenabad Seat Three Times In A Row, The Challenge Will Be To Save The Traditional Seat, Tough Competition For BJP Congress

हिसार16 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

ऐलनाबाद उपचुनाव के लिए सबसे पहले उम्मीदवार की घोषणा हो गई है। इनेलो की तरफ से अभय सिंह चौटाला इस मैदान में उतरेंगें। सिरसा के चौपटा गांव में हुई इनेलो की रैली में इस बात की घोषणा कर दी गई। ऐलनाबाद सीट से लगातार तीन बार विधायक बनते आ रहे अभय चौटाला के सामने अपनी पार्टी की इस परंपरागत सीट को बचाए रखने की चुनौती होगी वहीं अभय चौटाला के मैदान में आ जाने से भाजपा-कांग्रेस के लिए भी इस सीट पर जीत के लिए संघर्ष कठिन हो गया है।

इस बारे में शनिवार को अभय चौटाला ने कहा था कि इनेलो चुनाव में उतरेगी या नहीं और अगर उतरेगी तो उनकी तरफ से प्रत्याशी कौन होगा इस बारे में पंचायत में फैसला किया जाएगा। इसी कड़ी में रविवार को चौपटा गांव में इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला की मौजूदगी में अभय चौटाला के नाम पर प्रत्याशी के तौर पर मोहर लगा दी गई। नाम घोषित होने के बाद अभय चौटाला ने कहा कि उन्होने किसानों के कहने पर ही अपने पद से इस्तीफा दिया था और आज पंचायत के कहने पर वह दोबारा से चुनाव में उतरने के लिए तैयार हैं। अभय चौटाला ने कहा कि तीन नए कृषि कानूनों के लिए कांग्रेस और भाजपा संयुक्त रूप से दोषी हैं।

इनेलो के लिए करो या मरो की स्थिति, भाजपा-कांग्रेस के सामने भी कड़ी चुनौती

प्रदेश में कई सालों तक सत्ता पर काबिज रही इनेलो पार्टी के पास फिलहाल एक भी सीट नहीं है। 2019 की इकलौती सीट ऐलनाबाद से भी उनकी पार्टी के इकलौते विधायक अभय चौटाला कृषि कानूनों के विरोध में पद से इस्तीफा दे दिया था। अब दोबारा से अभय चौटाला चुनावी मैदान में उतर गए हैं। अगर इस चुनाव का नतीजा इनेलो के आशाओं के अनुरूप नहीं आता है तो यह इनेलो के भविष्य पर ही सवाल खड़ा कर देगा। अभय चौटाला को हर हाल में इस सीट को जीतने के लिए संघर्ष करना होगा ताकि हासिए पर जा चुकी अपनी पार्टी को फिर से खड़ा किया जा सके। वहीं इनेलो की तरफ से अभय चौटाला के मैदान में उतर जाने से भाजपा-कांग्रेस के लिए भी मुकाबला कड़ा हो गया है। ऐलनाबाद सीट इनेलो एवं ताऊ देवीलाल के परिवार की परंपरागत सीट रही है और खुद अभय चौटाला लगातार यहां से तीन चुनाव जीत चुके हैं। हालांकि बीते दो चुनावों में बीजेपी के प्रत्याशी रहे पवन बैनिवाल ने अभय चौटाला को कड़ी टक्कर दी थी लेकिन अब वह कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। इस सीट पर 1968 व 1991 में ही कांग्रेस जीत पाई थी, उसके बाद से कांग्रेस की स्थिति यहां पर ज्यादा अच्छी नहीं रही है। ऐलनाबाद सीट से खुद ओमप्रकाश चौटाला, उनके भाई प्रताप सिंह चौटाला यहां से विधायक चुने जा चुके हैं।

अभय चौटाला ने गांव के पंच पद से शुरू की थी राजनीतिक पारी

अभय चौटाला ने अपने गांव चौटाला में पंचायत में पंच पद से अपनी राजनीतिक पारी शुरू की थी। इसके बाद वह गांव में उपसरपंच, ब्लॉक समिति मेंबर व दो बार सिरसा जिला परिषद के चेयरमैन रह चुके हैं। 2000 में पहली बार रोड़ी विधानसभा से विधायक चुने गए थे जो सीट ओमप्रकाश चौटाला द्वारा इस्तीफा देने के कारण खाली हुई थी। इसके बाद अभय चौटाला ने 2004 में कुरूक्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी नवीन जिंदल के सामने सांसद का चुनाव लड़ा था लेकिन जीत नहीं पाए थे। 2010 में ऐलनाबाद सीट से विधायक बनने के बाद लगातार यहां से चुनाव जीतते आ रहे हैं। इस बार यह इनका चौथा चुनाव होगा।

खबरें और भी हैं…


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -
Latest News

VK Sasikala, Who Quit Public Life, Returns To Jayalalithaa Memorial

<!-- -->The AIADMK, which expelled her, has reiterated that there is no place for Sasikala (File)Chennai: VK Sasikala,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
%d bloggers like this: